पडोस्वाली कुंवारी लड़की

नमस्कार फ्रेंड्स, मे आपको अपनी पड़ोसन कुंवारी लड़की की चुत की चुदाई की कहानी सुनने जा रहा हूँ। मेरा नाम राज है, मे लुधियाना का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 24 साल की है और मे अविवाहित हूँ।

मेरी एक gf थी, उसका नाम नीलम था। मेरे घर के पास ही एक और लड़की रहती थी सिर्फ़ 18 साल की…। उसका नाम था संध्या… संध्या और नीलम आपस में सहेलियां थी, संध्या को नीलम और मेरे बारे में पता था। मे नीलम के घर फोन संध्या से ही करवाता था।
संध्या को सब पता होता था कि नीलम और मे कहाँ जा रहे हैं, क्या क्या करते हैं।

ये सब सुन सुन कर अब संध्या को भी सेक्स करने की इच्छा होने लगी थी, वह अक्सर मेरे घर पर आती और मुझसे पूछती- राज भैया, आपने कल नीलम के साथ क्या किया।

मे बोलता- तुझे इन सब बातों से क्या काम है?

तो वो शर्मा कर चली जाती।

मेने नीलम से पूछा तो उसने मुझे बता दिया कि वह हमारे बीच हुई सब बातें संध्या को बताती है।

मे समझ गया।

एक दिन जब मे अपने घर में काम कर रहा था तो संध्या मेरे पास आई और मुझसे बात करने लगी।

मेने उसको कहा- तू अभी जा… थोड़ी देर से आना, मुझे अभी काम करना है।

मगर वह नहीं मानी।

मेने उसे थोड़ी देर तक आने को बोला तो फिर वह चली गई।

मेरी मम्मी को मार्केट जाना था तो मम्मी ने मुझसे कहा- मे थोड़ी देर में वापस आ जाऊंगी, तुझे चाय पीनी हो तो संध्या को बोल देना, वह बना देगी!

मेने कहा- ठीक है!

मम्मी के जाने के ठीक बाद ही संध्या फिर से मेरे यहाँ आ गई और मुझे परेशान करने लगी।

मे अपना काम नहीं कर पा रहा था।

इतने में संध्या मेरे हाथ से पेन छीन कर मेरे कमरे में भागने लगी। मे उसको पकड़ने के लिए खड़ा हुआ, मेने उसको पीछे से पकड़ लिया। जब मेने उसको पकड़ा तो मेरे हाथ उसकी चुची पर थे। संध्या की चुची बहुत ही नर्म थी पर छोटी भी थी। मेरा लंड उसकी गांड पर था। थोड़ी देर तक पकड़ने के बाद उसने मुझे पेन दे दिया।

मे पेन नहीं लेना चाहता था मगर मेने उसे छोड़ दिया, मेने उसको कहा- मुझे चाय बना दे!

उसने कहा- ठीक है भैया!

और वह चाय बनाने के लिए चली गई।

Padoswali ladki ki chudai kahani –

मे थोड़ी देर तक सोचता रहा कि क्या करूँ, मगर अब मुझसे बिना सेक्स करे नहीं रहा जा सकता था। मे धीरे से उसके पास किचन में गया और उसके पीछे जाकर खड़ा हो गया, कहने लगा- अभी तक चाय नहीं बनी क्या?

मेरा लंड उसके चुतड़ों पर लग रहा था तो वह समझ गई थी, वह मुझसे कतराने लगी।

मे भी समझ गया कि यह अब मुझसे कतरा रही है।

उसने मुझे चाय दी और कहा- भैया, मे जा रही हूँ घर!

मेने कहा- रुक ना… चाय तो पीने दे, उसके बाद चली जाना!

उसने कहा- ठीक है, पी लो।

मे उसे अपने कमरे में ले गया। वह मेरे कमरे में एक कोने में चुपचाप खड़ी हो गई। मे सोच रहा था कि अब क्या किया जाए।

मेने उससे जान कर नीलम की बात को छेड़ा, मेने उससे पूछा- तेरी नीलम से कोई बात हुई है क्या?

उसने कहा- नहीं!

फिर मेने उसको कहा- तू नीलम को फोन कर के यहाँ बुला ले!

उसने कहा- क्यों? यहाँ क्यूँ बुला रहे हो भैया?

मेने कहा- मम्मी नहीं है ना इसलिए!

उसने कहा- ठीक है।

फिर वह बोली- मे फोन करके आती हूँ।

मेने कहा- रुक!

मेरे यह कहने से वह रुक गई और पूछने लगी- बोलो क्या?

मेने उससे पूछा- नीलम तुझे क्या क्या बात बताती है?।

तो उसने कहा- कुछ नहीं।

मे समझ गया कि यह अब डर रही है मुझसे बोलने में… मेने कहा- संध्या, तू मेरे पास आ!

वह बोली- क्यों?

मेने कहा- आ तो सही!

वह धीरे से मेरे पास आई, मेने उसको बेड पर बैठाया और कहा- संध्या, तुझे सब पता है ना मेरे और नीलम के सेक्स के बारे में?

तो वह कहने लगी- भैया, मुझे कुछ नहीं पता है कसम से!

वह उस समय डर गई थी।

फिर मेने कहा- कोई बात नहीं। तुझे हमारी बातें जानना हो तो मुझसे पूछ लिया कर… मगर नीलम से मत पूछा कर!

तो उसने तुरंत पूछा- क्यों?

मेने कहा- कहीं नीलम ने तेरी मम्मी से कह दिया तो?

उसने धीरे से हाँ की।

उसके बाद मेने उससे पूछा- तुझे जानना है क्या अभी बात?

तो उसने धीरे से अपने चेहरे को नहीं में हिलाया।

फिर भी मेने उसको बात बताना शुरू कर दिया। थोड़ी देर तक तो वह ना ना कर रही थी, उसके बाद वह गौर से सुनने लगी। मेने उसको एक बात तो पूरी बता दी।

उसके बाद उसने मुझसे कहा- भैया कोई और दिन की सुनाओ ना?

जब मेने उससे कहा- मे अब सुनाना नहीं करना चाहता हूँ।

वह एकदम से खड़ी हो गई।

मेने उसको आगे से पकड़ लिया और उसके होंठों पर चूमने लगा।

वह मुझसे छूटने की पूरी कोशिश कर रही थी मगर मेने उसको छोड़ा नहीं…

थोड़ी देर के बाद मेने उसको कहा- बेड पर लेट जा!

मगर वह बोली- मे चिल्ला दूँगी।

मेने कहा- ठीक है, तू चिल्ला!

मेने उसको अपने हाथों से उठाया और बेड पर लेटा दिया और उसके ऊपर लेट गया। मेने उसके हाथों को पकड़ लिया और उसको चूमने लगा।

थोड़ी देर तक तो वह ना ना करती रही फिर मेने अपने एक हाथ से उसके दोनों हाथ पकड़ लिए और एक हाथ से उसके सलवार का नाड़ा खोल दिया।

वह नहीं नहीं कर रही थी।

फिर मे उसके सलवार में हाथ डाल कर उसकी चुत को सहलाने लगा। थोड़ी देर तक यह करने के बाद वह भी गर्म होने लगी। मेने फिर उसके हाथ छोड़ दिए और उसके बाद मे समझ गया कि अब यह भी गर्म हो चुकी है, अब चुदाई में नखरे नहीं करेगी।

फिर मेने उसकी कुरती उतारी और उसके साथ उसकी समीज़ भी उतार दी। मे उसकी चुची को सहलाने लगा और उसकी चुत को हाथ से सहलाने लगा।

मुझे पता था कि यह पहली बार सेक्स कर रही है।

उसके मुख से ‘हह हह हह…’ की आवाज़ आ रही थी।

मेने उसको कहा- मे नीलम के साथ भी यही करता हूँ।

तो उसने अपनी बंद आँखें खोली और कहा- इसके बाद क्या करते हो?

मे समझ गया कि यह अब पूरी गर्म हो गई है, मेने उसके पूरे कपड़े उतार दिए, अब वह मेरे सामने पूरी नंगी थी।

मेने फिर अपने कपड़े उतारे और तेल की शीशी लेकर आया। मेने मेरे लंड पर तेल लगाया, उसके बाद उसकी चुत में तेल लगाया।

मेने उसको पूछा- मे अपना लंड डालूँ?

तो उसने कहा- डाल दो!

मेने जैसे ही अपना लंड थोड़ा सा उसकी चुत में डाला तो वह ज़ोर से चिल्ला दी- ऊऊओंम आआआअ ईईईईई नहियीईईईईईई भैयआआअ निकालओ।

मेने लंड निकाला और कहा- थोड़ा तो दर्द होगा। तू इतनी ज़ोर से मत चिल्ला!

उसने कहा- ठीक है, मगर भैया थोड़ी धीरे डालना!

मेने फिर से अपना लंड उसकी चुत में डाला तो वह जैसे ही चिल्लाई, मेने अपना मुँह उसके मुँह पर रख दिया और उसके होंठों को चूसने लगा।

थोड़ी देर के बाद उसका चिल्लाना कम हुआ।

फिर मेने अपनी कमर को थोड़ा पीछे कर के ज़ोर से एक झटका दिया और अपना पूरा लंड उसके चुत में डाल दिया। उसके बाद वह तो जैसे मर ही गई, इतनी ज़ोर से चिल्लाई- उम्म्ह… अहह… हय… याह… मम्मय्यययी नहियीईईईईईई भैयाआआ निकालऊऊऊऊऊऊ!

फिर मेने उसके होंठ अपने होंठों में ले लिए और ज़ोर ज़ोर से हिलने लगा।

उसकी चुत में से खून आने लगा और वह पागल सी हो गई।

मेने उसके चिल्लाने पर भी उसे चोदना नहीं छोड़ा और चोदता ही चला गया।

थोड़ी देर के बाद मेरा वीर्य निकल गया जो मेने उसकी चुत में नहीं जाने दिया, बाहर निकाल दिया।

और उसके ऊपर ही थोड़ी देर लेटा रहा।

मेरे लंड को उसकी चुत में से बाहर निकालने के बाद ही उसने चैन की सांस ली और कहा- भैया, अब मे आपसे कभी नहीं चुदुंगी।

मेने उसको कहा- तू अपना खून साफ कर ले और कपड़े पहन ले!

मेने अपने कपड़े पहन लिए और उसके बाद अपना काम करने लग गया।

थोड़ी देर के बाद वह कमरे से बाहर आई और कहा- भैया, मे जा रही हूँ।

मेने कहा- ठीक है, अब कब आएगी?

उसने कहा- जब टाइम मिलेगा।

आज भी मे उसको जब भी मौका मिलता है तो चोदता रहता हूँ।



"bhai behan ki chudai""sexy stories in hindi""antarvasna sex video""village sex stories""chudai ki kahaniya""brother sister sex story""mummy ki chudai""www.indian sex stories.com""sexy bhabi""hantai porn""antarvasna sasur bahu""six story in hindi""desi kahani hindi"antsrvasna"sex story.com""chudai ki story""chodai ki kahni""indisn sex""sali ki chudai story""sexi bhabhi""sex stor""story of sex hindi""chudai ki kahani hindi""sex story hindi""hindi sex storiea""porn stories in hindi""jija sali sex stories""hindi sax story com""indian mms blog""indian sex stories in hindi""sexy bhabhi story""indian sex stories in hindi font""mastram ki kahaniya"antarvasna."girl sex story in hindi""sexy khaniya""saali ko choda""new hindi sex""sasur bahu sex""hindi chut""xossip sex story""family sex story""bhabhi ko choda""naukar sex stories""sexy hindi kahani""hindi me chudai"antarvasna.com"porn stories hindi""sex stories pdf""sex with sali""chudai ki kahani hindi""chudai ki kahani"www.kamukata.com"chodai kahani""chudai kahaniya""hindi desi sex story"kamukata"mami ko choda""hindi sex store"mastram.netsexixsexyxxx"desi saxy story""sexx hindi story""sexy stories hindi""sex story in odia""sex strories""xossip sex story"saaliantervashna.com"hindi sexy stories.com""hindisex stories""sexsi hindi kahani"antervsna"hindi sex kahaniya""hindi sex story blog""bhanji ki chudai""hindi porn stories""beti ki chudai""kamukta sex story""group sex kathalu"